Vichar Manthan

Mere vicharon ka sangrah

199 Posts

2776 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15986 postid : 1026873

मरहबा मोदी जी ( संयुक्त अरब अमीरात में आपका स्वागत है )

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मरहबा मोदी जी ( आपका स्वागत हैं )
|भारत के संयुक्त अमीरात से बहुत अच्छे सम्बन्ध रहे हैं भारत के हर प्रदेश से कामगर काम करने जाते हैं जिनमें कुशल श्रमिकों और अकुशल श्रमिको की भरमार हैं वह खाड़ी देशों में अच्छा पैसा मिलता है अत : अपनी तकदीर बदलना चाहते हैं | 1981 में इंदिरा जी अबुधाबी आई थी 1992 में शेख जाहिद भारत आये थे इसके बाद डॉ अब्दुल कलाम और प्रतिभा पाटिल यात्रा पर गई थी लेकिन 2013 में डॉ मनमोहन सिंह जी का संयुक्त अरब अमीरात की यात्रा का विचार बना परन्तु जा नहीं सके शायद मिली जुली सरकार की मजबूरी | 34 वर्ष के बाद भारतीय प्रधानमन्त्री इस क्षेत्र के दौरे पर गये वह लेबर कैम्प में रहने वाले श्रमिकों की सुध भी लेना चाहते थे | मोदी जी का दौरा भारत के लिए निवेश लाने और सुरक्षा की दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण है| भारत अरब अमीरात से प्रत्यार्पण संधि करना चाहता हैं| भारत का अपराधी दाऊद दुबई में कई नामों से अपने व्यापार का विस्तार कर चुका है |वह दुबई आता जाता रहता है | भारत चाहता है अमीरात से आपराधिक और दीवानी मामलों में कानूनी सहयोग हो ,मादक वस्तुओं की तस्करी पर रोकथाम और अनेक मामलों में संधि और समझौते किये जायें | आतंकवाद के विषय पर भी बात करना चाहता है | इस्लामिक स्टेट की विचारधारा मुस्लिम देशों में अपने पैर पसार रही है ,ईराक सीरिया के बाद यमन तक पहुँच चुकी है | अरब देशों की दौलत पर कब्जा जमा कर आगे बढना, भारत भी उनके नक्शे में आता है | पश्चिमी एशिया पर चीन की सदैव नजर रही वह इस क्षेत्र में अपना प्रभाव और बाजार बढ़ाने का सदैव इच्छुक रहा है खाड़ी देशों से तेल का आयात करता है| भारत उसके बढ़ते प्रभाव को भी कम करना चाहता है | संयुक्त अरब अमीरात में 25 लाख भारतीय रहते हैं जिन्होंने इस क्षेत्र को अपना घर बना लिया है |यह अपना पैसा भारत भेजते हैं जबकि काफी पैसा हवाले द्वारा आता है| भारत में भेजा गया पैसा भारत के विकास में सहायक रहा है |
संयुक्त अरब अमीरात की राजधानी अबुधाबी है इसकी आबादी अमीरात देशों से जुड़े अन्य अरब देशों से सबसे अधिक है |यहाँ की कुल जनसंख्या 94 लाख है साक्षरता दर 85 1/2% है अबुधाबी के शासक खलीफा बिन जायेद अल नहयान हैं|यह संयुक्त अरब अमीरात के राष्ट्रपति भी हैं अबुधाबी में इनका निवास स्थान हैं | संघीय सरकार संघीय संस्थान मंत्रालय और विदेशी दूतावास भी यहीं हैं | अबुधाबी में अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है शहर में तेल कम्पनियों के दफ्तर और व्यापारिक केंद्र हैं |प्रदेश को खूबसूरत बनाने के लिए पूर्वी क्षेत्र में धरती के अंदर इकठ्ठे पानी से बगीचे ,खेत बना कर क्षेत्र को हरा भरा बनाया गया है जायद शहर के रेगिस्तान में जंगलों को लगा कर इस क्षेत्र को ही बदल दिया गया है |यहाँ के पश्चिमी क्षेत्र में अनेक द्वीप हैं जो प्राकृतिक रूप से बसे हुए हैं इसके अलावा तेल क्षेत्र और आयल रिफ़ाइनरी भी हैं |यहाँ के राष्ट्रपति शेख जायद ने तेल के निर्यात के साथ पर्यटन उधोग को भी बढावा दिया था उनकी 2004 में मृत्यु के बाद उनके पुत्र शेख खलीफा बिन जायद राष्ट्रपति निर्वाचित हुए उन्होंने अपने पिता की विरासत को जिन्दा रखा ,अबुधाबी को पर्यटकों के लिए आकर्षक बना दिया ऊँची – ऊंची इमारतें मनोरंजन की सुविधाएं बाग़ बगीचों पार्क यहाँ की शोभा बढाते हैं |अबुधाबी में सबका स्वागत हैं जब तक इस्लाम धर्म के विपरीत कुछ न किया जाये | यहाँ की कानून व्यवस्था बहुत सख्त हैं अत: अपराध न के बराबर हैं | यहाँ खेल ऊंट की दौड़ ढोव नौका की सवारी प्रसिद्ध है| अरबी कविता नृत्य संगीत भी प्रचलित हैं |राष्ट्रिय भाषा अरबी हैं लेकिन अंग्रेजी हिंदी उर्दू भी बोली जाती है शानदार मॉल होटल पिकनिक स्पाट पर्यटकों को आकर्षित करते हैं |
प्रधानमन्त्री का एयर पोर्ट पर युवराज मोहम्मद बिन जायद अल नहयान ने उनका अपने पाँचों भाईयों के साथ प्रोटोकोल से हट स्बागत किया |उनका स्वागत राष्ट्र गान से किया गया तोपों की सलामी दी गई मोदी जी ने गार्ड आफ आनर का निरीक्षण किया | होटल में विश्राम के बाद प्रधान मन्त्री युवराज और उनके भाईयों के साथ प्रसिद्ध जायद मस्जिद देखने के लिए गये | मोदी जी ने उनके साथ सेल्फी खींची ( सेल्फी राजनीति ) दर्शनीय मस्जिद में घूमें वहाँ की परम्परा के अनुसार रजिस्टर पर शांति संदेश लिखा |यहाँ भी मोदी – मोदी के नारे लग रहे थे|
जायद मस्जिद- यह मस्जिद पूरी तरह वातानुकूलित है इसके निर्माण कार्य में तीन हजार मजदूर ,38 कम्पनियों ने काम किया | यह सफेद रंग की मस्जिद हैं जो कारीगरी और इंजीनियरिंग का बेजोड़ नमूना है| इसके गुम्बद की ऊचाई 75 मीटर है इसके निर्माण के लिये भारत,तुर्की ,मलेशिया चीन ईरान ब्रिटेन न्यूजीलैंड ग्रीस के कारीगरों ने मिल कर काम किया |मस्जिद में एक हजार खम्बे हैं इन खम्बों पर सोने की नक्काशी की गई है |इसमें १८० किलो सोना लगा है फर्श पर इटेलियन टाईल के खूबसूरत डिजाइन बने हुए है| राजस्थान का मकराना पत्थर का भी उपयोग किया गया है | मस्जिद के मुख्य हाल में बिछा कालीन दुनिया का सबसे बड़ा कालीन है जिसे 2 वर्ष में 1200 ईरानी महिलाओं ने रात दिन मेहनत से बनाया था | पर्शियन कारपेट बहुमूल्य और ईरानी कला का अदभुत नमूना है |जायद मस्जिद की गिनती दुनिया की दस मस्जिदों में होती है जिनमें इसका नम्बर तीसरा है | शाम के समय खास रौशनी में इसकी छटा निराली होती है | मस्जिद से कुछ दुरी पर लेबर कैंप है मोदी जी के एजेंडे में वहाँ के निवासियों से मिलना भी था मोदी – मोदी जी नारे लगाते भारतीय समुदाय के लोगों से वह मिले उनका हालचाल पूछा वह किस शहर के हैं कितने वर्षों से हैं ,उनके साथ फोटो खिचवाई भारतीय समुदाय उनसे मिल कर बहुत खुश था |कईयों ने उनके पैर छुये हाथ मिलाया |
मोदी जी ब्रिक्स सम्मेलन में भाग लेने के दौरान मध्य एशिया के देशों की यात्रा में तुर्कमिस्तान गये| वहाँ वह रूही मस्जिद , मस्जिद राष्ट्रपति का मकबरा है में भी गये लेकिन मोदी जी की इस यात्रा की अधिक चर्चा नहीं हुई लेकिन जायद मस्जिद जाने पर मोदी जी पर अनेक सवाल दागे गये | मोदी जी भारत में किसी मस्जिद में कभी नहीं गये वह विदेश में धर्म समभाव दिखा रहे हें उन्होंने भारत के एक सम्मेलन में चादर स्वीकार कर ली लेकिन इस्लामिक टोपी पहनने से इंकार कर दिया था| प्रजातंत्र में बिरोध करने का सबको हक हें |
मोदी जी ने मसदर हाई टेक शहर देखा यह प्रदूषण रहित क्षेत्र हैं जहाँ मोदी सोलर ऊर्जा से चलने वाली गाड़ी पर बैठे यह ड्राईवर रहित कार हैं | मोदी जी ने उद्योगपतियों से मुलाक़ात की उन्होंने मसदर शहर की तारीफ़ में कहा यदि भारत को ऐसा कौशल मिल जाये भारत सोलर एनर्जी से अपने शहरों को प्रदूष्ण मुक्त कर लेगा ,विकास की सीढियाँ चढ़ता जायेगा वह भारत में टूरिज्म को बढावा देना चाहते थे यह सदी एशिया के विकास की सदी हैं और अरब अमीरात ने विकास किया है | भारत में बहुत सम्भावनाएं है देश में बहुमत की सरकार है वह निर्णय लेने में स्वतंत्र हैं वह सभी सुविधायें दे सकती है जिनकी निवेश में जरूरत है मोदी जी ने हाल में संसद का हाल देखा है जीएसटी और भूमि अधिग्रहण बिल कांग्रेस के अहम की भेंट चढ़ गये |और भी की समझौते जिनका जिक्र नहीं किया जाता अजित दोबाल भी प्रधानमन्त्री के साथ गये थे उन्होंने दाऊद से सम्बन्धित दस्तावेज अबुधाबी के सिक्योरिटी डिपार्टमेंट को सोंपे और अधिकारी से बात की | दाऊद भारत का अपराधी हैं उसने दूसरे नामों से रियल स्टेट और अनेक कामो में अपना पैसा लगाया है| उसका सबसे अधिक पैसा दुबई की प्रापर्टी में लगा है |
दुबई अबुधाबी के बाद अमीरात का दूसरा बड़ा शहर हैं इसे आप मिनी इंडिया भी सकते हैं | हिंदी और उर्दू ज्यादातर लोग समझते हैं दरहम यहाँ की करंसी है जब आज से काफी समय पूर्व में दुबई गई थी यहाँ आम लोग अठन्नी चवन्नी रूपये में भाव बताते थे दुबई का सोना बाजार में आँखे पीली पड़ जाती हैं सड़क तक सुनहरा रंग दमकता हैं |विश्व मै धीरे-धीरे बढती मंदी से 2009 में रियल स्टेट के बिजनेस में दुबई भी मंदी का शिकार हो गया उसने अपने द्वीपों पर बड़ें खूबसूरत अपार्टमेंट बनाये थे लेकिन उसके खरीददार नहीं मिले ऐसे में अबुधाबी ने आर्थिक मदद देकर उबारा | यहाँ का बुर्ज खलीफा इंजीयरिंग का कमाल हैं यह दुनिया का सबसे सबसे ऊँचा टावर हैं ,रहने के लिए अपार्टमेंट के अलावा बेहतरीन होटल हैं जहाँ सैलानियों को आकर्षित करने के लिए स्विमिंग पूल और जिम भी हैं|
मोदी जी का दुबई के क्रिकेट मैदान में भारतियों ने रंगा रंग कार्यक्रमों द्वारा स्वागत किया लगभग 50.ooo दशकों से मैदान खचाखच भरा हुआ था | भारतियों के लिए बाहर भी स्क्रीन लगाई गई थी जहाँ बैठ कर भाषण सुना जा सकता था प्रवासी जानते हैं अपने देश के प्रधानमन्त्री को सुनना देखना कितना अच्छा लगता है |मोदी जी ने केरला समाज को उनके नववर्ष की शुभ कामनाये मलयाली में दी |उस ख़ुशी का आप अंदाज नहीं लगा सकते जिसे केरल के लोगों ने महसूस किया |उन्होंने बताया अमीरात ने साढ़े चार करोड़ के निवेश का भरोसा दिया हैं | सबसे बड़ी बात बिना लाग लपेट के आतंकवाद के खिलाफ एकता का स्वर इस धरती से उठा | ज्वाईंट स्टेट मेंट में आतंकवाद के खिलाफ कंधे से कंधा मिला के साथ चलने का भरोसा दिया है | दो विश्व युद्ध दुनिया ने देखे शान्ति के लिए यूनाईटेड नेशन की स्थापना को 70 वर्ष हो चुके हैं लेकिन आतंकवाद की परिभाषा आज तक नहीं हो पाई है |इस विषय की चर्चा को टाला जाता है | क्राउन प्रिंस ने यू एन की सुरक्षा परिषद में भारत की स्थाई सदस्यता का समर्थन किया है |मोदी जी संयक्त अमीरात में किये गये स्वागत से भी अविभूत थे |अमीरात ने भारत में आतंकवादी घटनाओं को अंजाम देने वाले आतंकवादी पर भी नकेल कसने का भरोसा दिया है | मोदी जी ने पहले भी यू .एन में अपने भाषण के दौरान कहा गुड टेरारिज्म और बैड टेरारिज्म क्या होता हैं? अच्छा तालिबान और बुरा तालिबान क्या होता है ? आतंकवाद तो आतंकवाद है जिसने पूरी दुनिया को अपने में लपेट लिया है यही बात फिर से दोहराई | पाकिस्तान को भी ललकारा हम पड़ोसियों से सदैव अच्छे सम्बन्धों के इच्छुक रहे हैं | सबसे बड़ी बात मन्दिर के लिये अमीरात नें जमीन देने का वादा किया है |यदि ऐसा होता है इससे बड़ा उपहार ही नहीं हो सकता |भारत का संयुक्त अमीरात से पुराना रिश्ता है पाकिस्तान के प्रधान मंत्री अपना रिश्ता पक्का करने हर दो वर्ष बाद जाते रहते हैं फिर भी भारत से अरब दुनिया के गहरे रिश्ते हैं | मोदी जी ने भारतीयों के हितों का भी ध्यान रखा उनकी परिशानियों का ध्यान रखने के लिए दूतावास को भी हिदायत दी |
अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्धों का नया अध्याय लिखा जा रहा है वह दिन दूर नहीं ईरान की धरती पर मोदी जी के लिए खुशामदीद के बैनर लगें |सऊदी अरब में भी मरहबा मोदी गूंजे मोदी जी इजराईल भी जायगें | आतंकवाद और इस्लामिक स्टेट की विचार धारा ने सभी देशों को सोचने पर मजबूर कर दिया है |

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

10 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

amitshashwat के द्वारा
August 19, 2015

आदरणीय महोदया , आपकी लेखनी सहज और तार्किक तो है ही साथ में विषय के  जीवंतता की सरल प्रवाह भी होती है .जनसंचार द्वारा प्रदर्शित -मरहबा मोदी जी -को बिलकुल ताजगी तथा तथयों के साथ प्रसतुत करना आपकी लेखकीय चितंन - क्षमता का परिचायक है ।धनयवाद ।

Shobha के द्वारा
August 19, 2015

मरहबा का अर्थ खुशामदीद आपका स्वागत है आपको लेख पसंद आया बहुत अच्छा लगा वैसे आजकल प्रतिक्रिया पहुचना बहुत मुश्किल हो रहा है आपने लेख के कुछ समय बाद ही पढ़ कर दे दी में इस क्षेत्र में काफी समय रही हूँ अत : यहाँ की राजनीति से वाकिफ हूँ

Dr Ashok Bharadwaj के द्वारा
August 22, 2015

संयुक्त अरब अमीरात की राजनीति इतिहास भूगोल को लेकर बहुत अच्छा लेख मोदी जी की का स्वागत उनकी कूटनीतिक विजय पर बहुत अच्छा को लेकर अच्छा लेख

Shobha के द्वारा
August 22, 2015

लेख पढने का बहुत धन्यवाद

Neelam के द्वारा
August 24, 2015

मैं काफी समय दुबई मैं रही हूँ बुर्ज खलीफा उन्हीं दिनों बन रहा था अबुधाबी भी गई हूँ आपने संयुक्त अरब अमीरात की याद दिला दी सबसे अच्छी बात वहां की कानून व्यवस्था है

Shobha के द्वारा
August 24, 2015

जो लोग इन क्षेत्रों में रहे है वह जानते हैं रेगिस्तान को किस तरह से बदला जा सकता है

abhijat के द्वारा
August 26, 2015

आदरणीय शोभा जी दुबई और अबुधाबी दोनों शहर बहुत खूबसूरत हैं बुर्ज खलीफा देखने लायक आपने बड़ा ही सजीव वर्णन किया है

Anjana के द्वारा
August 26, 2015

बहुत अच्छा लेख ख़ास कर सोना बाजार का वर्णन भारतीय मोदी जी के लिए ख़ुशी से नारे लगा रहे थे ३४ वर्ष बाद कोई प्रधानमंत्री अमीरात गया था

Shobha के द्वारा
August 26, 2015

मोदी जी ने भारतीय लोगों से मुलाकात की उनकी समस्याओं को जानने की कोशिश की अमीरात से सम्बन्ध बढ़ाने की कोशिश की

Shobha के द्वारा
August 26, 2015

लेख पढने का बहुत धन्यवाद दुबई में सोने की चमक ही निराली है मोदी जी का स्वागत भी जम कर किया गया


topic of the week



latest from jagran