Vichar Manthan

Mere vicharon ka sangrah

193 Posts

2717 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15986 postid : 1318570

कानपुर के श्री सरताज को नमन

Posted On: 10 Mar, 2017 Junction Forum में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

‘श्री सरताज आज अपने नाम से जाने जा रहे हैं ईमान पर अडिग सच्चे देश भक्त अनुकरणीय इन्सान

हर कौम असहनीय पीड़ा से गुजरी है अफ्रीका के इतिहास को देखें ऐसे जुल्म क्या इन्सान इन्सानों पर  कर सकते हैं कुछ तमगों और धन के लिए इंसानियत को भी गोरों ने शर्मसार किया था | शस्य श्यामला भारत की भूमि पर अनगिनत हमले हुए दिल्ली का यह हाल रहा था कई दिन तक परिंदे भी पर नहीं मारते थे ऐसी खूरेजी सोच ही पीड़ा देती है | ऐसी संस्कृति सबके हित और विश्व के कल्याण को अपना धर्म समझती थी क्या कभी शान्ति से जी सकी थी? घोड़े दौड़ाते हुए हमलावर आते लूटते ,सब कुछ तबाह कर जाते | क्या आज अपने ऊपर हुये हमलों और जुल्मों का प्रतिकार लेने के लिए शक, हूण हमलावर जहाँ के बाशिंदे थे तथा मंगोलों से लड़ने मंगोलिया जायें या ईरान का शाह नादिर शाह देश का सम्मान तख्त ताउस ले गया था से लड़ें | भारत में 200 वर्ष तक ब्रिटिश साम्राज्य रहा उन कष्टों का बखान कर ब्रिटेन पर हमला कर सबक सिखायें ? हमलावर आये धरती खून से लाल हुई लेकिन उन्हें भी अपने में आत्म सात कर लिया आगे बढ़ते रहे तरक्की की राह अपनायी ,एक बात सीखी शक्तिशाली भारत की तरफ कोई आँख उठा कर नहीं देख सकता |

इतिहास क्या कहता है? जुल्मों की लम्बी लिस्ट बना कर नौजवान पीढ़ी के दिल में जहर घोलें या ओटोमन एम्पायर जैसे शक्तिशाली साम्राज्य का सपना देखें या दुनिया को इस्लाम करने का सब्ज बाग़ दिखायें जैसा इस्लामिक स्टेट के नाम पर दुनिया के मुस्लिम लड़कों को बगदादी उसके गुर्गे गुमराह कर रहे हैं या पाकिस्तान में आतंकवादी लश्कर कलम की जगह कौम के जवानों को बंदूक पकड़ा रहे हैं | आतंकवादी विचारधारा विध्वंस कारी है निंदनीय है उसका कोई मजहब नहीं है| गुमराह नौजवान किसी के नहीं हैं इस्लामिक ईरान में नारा था ‘न मादर न पिदर सिर्फ बिरादर’ न माँ न पिता केवल क्रांति की राह पर चलने वाले भाई एक दिन दुनिया को इस्लाम करेंगे हजारो नौजवान मर गये वहाँ की इस्लामिक सरकार का सत्ता पर कब्जा मजबूत हो गया | अनेक देश बर्बाद हो गये सीरिया ,ईराक अफगानिस्तान के बाशिंदें जीने के लिए आज दर बदर हैं कई देश बर्बादी के कगार पर हैं| इस्लामिक स्टेट की विचारधार ने विश्व की शान्ति व्यवस्था को खतरे में डाल दिया है| नौजवान आईएस की विचार धारा से प्रभावित होकर उनके लड़ाकों के साथ देने के लिए स्वदेश को अलविदा कह रहे हैं | भारत भी अछूता नहीं है नौजवानों को बरगला कर उनके दिलों में जहर घोने का काम कई नेटवर्क कर रहे हैं | मु० नौजवान को भी जेहाद के नाम पर आतंकवाद की तरफ आकर्षित किया जा रहा है | पाकिस्तान में आतंकवाद और जेहाद व्यवसाय बन गया उसे अल्लाह की राह पर जाना कहते हैं यदि किसी का आतंकवादी बेटा मारा जाता है कई परिवार उस पर गर्व करते हैं धर्म की राह शहादत पर दावत भी देते हैं |  का सपना देखने वाले बगदादी की हालत खराब हो रही है उसके साथियों को सुरक्षित पनाह गाह चाहियें पाकिस्तान में इस्लामिक स्टेट की विचार धारा पैर पसार रही है लाल कलंदर की दरगाह पर आत्मघाती हमला कितना दुखदायी और निंदनीय है |

“दमादम मस्त कलंदर ,अली दा पहला नम्बर की धुन” पर हर कौम झूम – झूम कर नाचती है जियारत करने आये लोगों पर आत्मघाती हमला कर पवित्र धरती को खून से रंगने का किसने हक दिया था और क्यों दिया था ? लखनऊ की हाजी कालोनी में 11 घंटे एनकाउंटर चला में मारे गये सैफुल्ला के अनुसार  बेटा में अच्छा था अचानक पढ़ाई से उचाट हो गया पिता की नाराजगी पर उसने घर छोड़ दिया | अपने स्वजनों परिवार और देश की चिंता न कर खून खराबे की राह चुनी वह आईएस की खुरासान विचारधारा से प्रभावित हुआ |आतंक का नेटवर्क सोशल मीडिया के रास्ते भारत में फैल कर भावुक जवानों को गुमराह कर रहा है | इसका मास्टर माईंड गौस मोहम्मद ने एयर फौर्स से रिटायर होने के बाद आतंकवाद का धंधा अपनाया उसके अपने दोनों बेटों का अपना घर संसार है लखनऊ के अली गंज में जूते चप्पल की दूकान चलाते हैं उन्हें जेहाद का रास्ता नहीं पढ़ाया वह उसके अपने बच्चे जिगर के टुकड़े हैं |अब वह पकड़ा गया है उसका प्लान था क्षेत्र में दहशत फैले आईएस का नाम के साथ इनका भी नाम हो|

वैसे खुरासान ईरान का एक शहर है वहाँ के बाशिंदे अपने सरनेम में खुरासान जादे लिखते हैं यहाँ के  बाशिंदे दूसरी और तीसरी सदी में कई स्थानों से पलायन कर यहाँ बसे थे |खुरासान का फ़ारसी में अर्थ ‘यहाँ से सूरज निकलता है’ लेकिन अब खुरासान मोड्यूल कट्टर इस्लामिक संगठन है जिसका 2012 में नामकरण किया गया| संगठन आईएस के साथ मिल कर काम करता है इसका संचालन सीरिया से होता है वहीं अधिक सक्रिय है अब दूसरे देशों के नौजवानों को भी सदस्यता देते हैं | बगदादी के नक्शे में खुरासान का क्षेत्र ईरान (जबकि ईरान शिया बाहुल्य क्षेत्र है) ,अफगानिस्तान ,उज्बेगिस्तान और तुर्कमिस्तान प्रमुख थे पहले पाकिस्तानी और तालिबानी इसके सदस्य बने थे | अब पूरे भारत, श्री लंका और चीन के कुछ भूभाग पर कब्जा कर वह अपना इस्लामिक स्टेट बनाने का ख़्वाब देख रहा है जिसका वह खलीफा होगा उसकी सल्तनत में काला झंडा फहराया जाएगा, ‘झंडा फैलेगा या नहीं’? शायद बगदादी के अपने ढंग के इस्लाम का सूरज खुरासान मौड्यूल है|

भोपाल की एक पैसेंजर गाडी में बम धमाके बाद एटीएस एक्टिव हो गयी | कानपुर में 11 घंटे तक चले एन्काउंटर में कोशिश की गयी सैफुल्लाह समर्पण कर दे अंत में वह मारा गया | लेकिन दुखद कांग्रेस के कुछ नेताओं ने इस पर राजनीति शुरू कर दी श्री दिग्विजय सिंह ने अपनी आदत के मुताबिक़ सरकार पर प्रश्न उठाया श्री चाको को शिकायत थी एन्काउंटर का समय ठीक नहीं था चुनाव का आखिरी चरण था हास्यास्पद |प्रशंसनीय है सैफुल्लाह के पिता उन्होंने बेटे के शव को लेने से मना कर दिया वह उसका अंतिम संस्कार भी नहीं करेंगे उन्होंने कहा “जो अपने देश का नहीं हुआ वह मेरा कैसे हो सकता है”हर किसी के लिए देश पहले है, बेटे का मुहँ देखने से भी इंकार कर दिया संसद में गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने श्री सरताज के साथ सहानुभूति व्यक्त करते हुए कहा श्री सरताज पर देश को फख्र है सदन ने उनके सम्मान में मेजें थपथपायीं |

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

8 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

sadguruji के द्वारा
March 13, 2017

आदरणीया डॉक्टर शोभा भारद्वाज जी ! सार्थक और पठनीय लेखन के लिए हार्दिक अभिनन्दन ! आपको और आपके परिवार को होली की बहुत बहुत बधाई ! जो देशद्रोही हैं उन्हें छोड़ा नहीं जाना चाहिए और उनके परिवार में जो निर्दोष लोग हैं, उन्हें छेड़ा नहीं जाना चाहिए ! इसी नीति पर सरकार को चलना चाहिए ! सादर आभार !

Shobha के द्वारा
March 14, 2017

श्री सद्गुरु जी लेख पढने पसंद करने के लिए धन्यवाद सरताज जी ने जिस तरह अपने आतंकवाद में लिप्त बेटे का अंतिम संस्कार नहीं किया अति सराहनीय है

anjana bhagi के द्वारा
March 15, 2017

शोभा दी आतंकवाद इन्सान के जीवन के लिए बहुत बड़ा खतरा है सरकार को सख्ती से आतंकवाद को बढ़ने से रोकना चाहिए

Shobha के द्वारा
March 15, 2017

प्रिय अंजना जी आतंकवाद पर सख्ती से लगाम लगाने की बहुत जरूरत है लेख पढने के लिए धन्यवाद

Bhola nath Pal के द्वारा
March 17, 2017

“जो अपने देश का नहीं हुआ वह मेरा कैसे हो सकता है”हर किसी के लिए देश पहले है,आदरणीय डॉ शोभा जी अनुकरणीय लेख …..सादर

Shobha के द्वारा
March 18, 2017

श्री भोला नाथ जी सही लिखा है आपने देश सबसे पहले है

deepak pande के द्वारा
March 18, 2017

DESH HEE SARVPRATHAM HAI SUNDER LEKHAN SARTAJ JEE KO NAMAN

Shobha के द्वारा
March 18, 2017

श्री दीपक जी लेख पढने पसंद करने के लिए धन्यवाद


topic of the week



latest from jagran